Mukesh Ambani: ‘श्री. नरेंद्र मोदी भारत के सबसे सफल प्रधानमंत्री…’

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Mukesh Ambani: परिचय

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) के अध्यक्ष और सबसे बड़े शेयर धारक मुकेश अंबानी व्यापार जगत में सफलता, नवाचार और परिवर्तनकारी नेतृत्व का पर्याय हैं। 19 अप्रैल, 1957 को यमन में जन्मे अंबानी ने न केवल अपने समूह के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, बल्कि भारत के आर्थिक परिदृश्य को आकार देने में भी एक प्रमुख व्यक्ति रहे हैं। यह लेख मुकेश अंबानी के जीवन, उपलब्धियों और प्रभाव पर प्रकाश डालता है, एक दूरदर्शी व्यक्तित्व की यात्रा को दर्शाता है जिसने व्यापार और प्रौद्योगिकी क्षेत्रों पर एक अमिट छाप छोड़ी है।

Mukesh Ambani: प्रारंभिक जीवन और शिक्षा

मुकेश अंबानी व्यवसाय से जुड़े परिवार से हैं। मुकेश के पिता धीरूभाई अंबानी ने रिलायंस इंडस्ट्रीज की स्थापना करके उनकी भविष्य की महत्वाकांक्षाओं की नींव रखी। मुंबई में अपनी स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद, अंबानी ने इंस्टीट्यूट ऑफ केमिकल टेक्नोलॉजी (आईसीटी), मुंबई से केमिकल इंजीनियरिंग में डिग्री हासिल की। उन्होंने स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी से बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (एमबीए) में मास्टर डिग्री प्राप्त करते हुए संयुक्त राज्य अमेरिका में अपनी पढ़ाई को आगे बढ़ाई।

Mukesh Ambani: रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड

व्यवसाय जगत में मुकेश अंबानी की यात्रा तब शुरू हुई जब वह 1981 में रिलायंस इंडस्ट्रीज में शामिल हुए। उन्होंने शुरुआती वर्षों में पॉलिएस्टर व्यवसाय पर ध्यान केंद्रित किया, जहां उन्होंने इसके विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया। हालाँकि, निर्णायक मोड़ 2002 में आया जब एक पारिवारिक समझौते के परिणामस्वरूप मुकेश और उनके छोटे भाई अनिल अंबानी के बीच रिलायंस साम्राज्य का विभाजन हो गया।

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Reliance Digital (@reliance_digital)


मुकेश के नेतृत्व में, रिलायंस इंडस्ट्रीज ने विभिन्न क्षेत्रों में विविधता लाई और पेट्रोकेमिकल, रिफाइनिंग, तेल और गैस अन्वेषण जैसे उद्योगों में दिग्गज कंपनी बन गई। कंपनी की सफलता का श्रेय मुकेश अंबानी की रणनीतिक दृष्टि, साहसिक निर्णय लेने और उत्कृष्टता की निरंतर खोज को दिया जा सकता है।

Mukesh Ambani: Jio के साथ दूरसंचार क्रांति

मुकेश अंबानी का सबसे क्रांतिकारी कदम 2016 में रिलायंस जियो इन्फोकॉम लिमिटेड के लॉन्च के साथ आया। Jio ने किफायती दरों पर हाई-स्पीड इंटरनेट की पेशकश करके भारतीय दूरसंचार बाजार को बाधित कर दिया, जिससे उपभोक्ता व्यवहार में एक बड़ा बदलाव आया और उद्योग परिदृश्य को नया आकार मिला। मुकेश अम्बानी जी की दूरदर्शिता और बाजार की जरूरतों का अनुमान लगाने की क्षमता Jio के बिजनेस मॉडल में स्पष्ट थी, जिसने न केवल डेटा सेवाओं पर ध्यान केंद्रित किया, बल्कि एक व्यापक पारिस्थितिकी तंत्र का निर्माण करते हुए डिजिटल प्लेटफार्मों को भी एकीकृत किया।


Jio का प्रभाव किफायती कनेक्टिविटी प्रदान करने से कहीं आगे तक गया; इसने सरकार की डिजिटल इंडिया पहल में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, लाखों भारतीयों को ऑनलाइन लाया और डिजिटल विभाजन को एक नयी उचाईयो तक ले जाके रख दिया। नवाचार के प्रति मुकेश अंबानी की प्रतिबद्धता ने जियो को एक पावरहाउस में बदल दिया, जिससे यह पुरे विश्व में दूरसंचार क्षेत्र में एक प्रमुख खिलाड़ी के रूप में स्थापित हो गया।

Mukesh Ambani: रिटेल और डिजिटल सेवाएँ

दूरसंचार क्षेत्र में क्रांति लाने के अलावा, मुकेश अंबानी ने रिटेल और डिजिटल सेवा बाजारों पर अपनी नजरें जमाईं। उनके नेतृत्व में आर.आई.एल की रिटेल शाखा, रिलायंस रिटेल, भारत में सबसे बड़ी और सबसे विविध रिटेल व्यवसाय बन गई। कंपनी की रणनीति में स्थापित ब्रांडों का अधिग्रहण करना और उनके साथ साझेदारी करना, किराना, फैशन, इलेक्ट्रॉनिक्स और अन्य जैसे विभिन्न क्षेत्रों में एक प्रमुख उपस्थिति सुनिश्चित करना शामिल था।

Mukesh Ambani: Jio retail and digital services

इसके अलावा, Jio प्लेटफ़ॉर्म के माध्यम से डिजिटल सेवाओं में अंबानी के प्रवेश ने तकनीकी वक्र से आगे रहने की उनकी प्रतिबद्धता को प्रदर्शित किया। Jio प्लेटफ़ॉर्म ने फेसबुक, Google और क्वालकॉम जैसे ग्लोबल तकनीकी दिग्गजों से महत्वपूर्ण निवेश आकर्षित किया, जिससे डिजिटल पावरहाउस बनाने के लिए मुकेश अंबानी के दृष्टिकोण को और अधिक मान्यता मिली।

Mukesh Ambani: स्थिरता के प्रति प्रतिबद्धता

व्यावसायिक सफलता से परे, मुकेश अंबानी टिकाऊ और जिम्मेदार व्यावसायिक प्रथाओं के समर्थक रहे हैं। उनके मार्गदर्शन में, रिलायंस इंडस्ट्रीज ने अपने पर्यावरणीय प्रभाव को कम करने और हरित प्रथाओं को बढ़ावा देने के लिए पहल की है। कंपनी ने सौर और पवन ऊर्जा परियोजनाओं पर ध्यान केंद्रित करते हुए नवीकरणीय ऊर्जा में निवेश किया है, और 2035 तक कार्बन न्यूट्रैलिटी प्राप्त करने के लिए प्रतिबद्ध है।

Mukesh Ambani: परोपकार और सामाजिक पहल

सामाजिक जिम्मेदारी के प्रति मुकेश अंबानी की प्रतिबद्धता उनकी पत्नी नीता अंबानी के नेतृत्व में रिलायंस फाउंडेशन द्वारा किए गए परोपकारी कार्यों से स्पष्ट होती है। फाउंडेशन स्वास्थ्य देखभाल, शिक्षा, ग्रामीण विकास और आपदा प्रतिक्रिया सहित विभिन्न पहलों में शामिल है। मुकेश अंबानी का दृष्टिकोण व्यावसायिक सफलता से कहीं आगे तक फैला हुआ है, जिसका लक्ष्य समाज पर सकारात्मक प्रभाव डालना और राष्ट्र-निर्माण में योगदान देना है।

Mukesh Ambani: Vibrant Gujarat Global Summit 2024

कल गुजरात में Vibrant Gujarat Global Summit 2024 का आयोजन किया गया था जिसमे देश के प्रमुख उद्योगपतियों को बुलाया गया था। मुकेश अम्बानी के अलावा इस कार्यक्रम में गौतम अडानी, एन चंद्रशेखरन, लक्ष्मी मित्तल और तोशीहिरो सुजुकी मौजूद थे। एशिया के सबसे अमीर आदमी और रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने Vibrant Gujarat Global Summit 2024 में कहा कि उनकी कंपनी रिलायंस अगले 10 वर्षों तक गुजरात में निवेश करना जारी रखेगी। 2030 तक उनकी कंपनी HEGA और गुजरात में कुल Green Energy Consumption का आधा हिस्सा पैदा करेगी।


इसके अतिरिक्त, रिलायंस जियो ने कहा कि उसने दुनिया का सबसे तेज़ 5G रोलआउट पूरा कर लिया है। एआई क्रांति से गुजरात में नौकरियां पैदा होंगी। रिलायंस रिटेल गुजरात में गुणवत्तापूर्ण उत्पाद वितरित करता है। रिलायंस ने गुजरात में सर्कुलर इकोनॉमी के लिए भारत का पहला कार्बन फाइबर स्थापित किया। इसके अलावा मुकेश अम्बानी ने भारत के माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी की प्रशंसा करते हुए ये कहा की मोदी जी भारत के इतिहास में अब तक के सबसे सफल प्रधानमंत्री रहे हैं।

अन्य पोस्ट पढ़िए:- मनमोहक Andaman and Nicobar Islands: बंगाल की खाड़ी में प्रकृति का स्वर्ग

1 thought on “Mukesh Ambani: ‘श्री. नरेंद्र मोदी भारत के सबसे सफल प्रधानमंत्री…’”

Leave a Comment